When is Maha Shivaratri 2023 ? | How it is Celebrated?

When is Maha Shivaratri 2023? |  How is it Celebrated?

When is Maha Shivaratri 2023 – How it is Celebrated Shivratri: Festival of  Maha Shivaratri in 2023 is on Saturday,18 February is dedicated to Lord Shiva and is celebrated with religious fervour by devotees.

When is Maha Shivaratri 2020 ? |  How it is Celebrated?
When is Maha Shivaratri 2023? |  How is it Celebrated?


Maha Shivratri is observed on the 13th night/14th day of the 11th Hindu month of Phalguna or Maagh (February-March) every year.

All-day and night prayers and devotion are the main attraction.

An enormous horde of enthusiasts assembles outside Lord Shiva’s sanctuaries promptly in the first part of the day for supplications. Aficionados present contributions such as coconut, natural products, Bilva (Bael) leaves and particularly made consecrated nourishment for the event.

As enthusiasts implore the Lord, they serenade “Om Namah Shivaya!” for the duration of the night.

Maha Shivratri To begin with, Maha Shivratri is said to be the day when Lord Shiva wedded Goddess Parvati. Along these lines, the day is the association of Shiva and Shakti, the two biggest powers of the Universe.


According to the Shiva Purathe Mahashivaratri worship must incorporate six items:

  • Bathing the Shiva Linga with water, milk, and honey. Wood apple or bel leaves are added to, which represents the purification of the soul;
  • Vermilion paste is applied to the Shiva Linga after bathing it. This represents virtue;
  • The offering of fruits, which is conducive to longevity and gratification of desires;
  • Burning incense, yielding wealth;
  • The lighting of the lich is conducive to the attainment of knowledge;
  • And betel leaves marking satisfaction with worldly pleasures.

 

Maha Shivratri Date Timing Shubh Muhurat In 2023

Maha Shivaratri 2023 Date : Saturday, 18 February 2023
  • निशिता काल  पूजा  समय  = 12:16 AM to 01:06 AM 19 February 
  • Duration = 0 Hours 50 Mins
  • On 19, महाशिवरात्रि  Parana Time = 06:57 AM to 03:33 PM
  • रात्रि  First प्रहर पूजा  Time = 06:24 PM to 09:32 PM ,19 February 
  • रात्रि  Third प्रहर पूजा  Time = 12:41 AM to 03:49 AM ,19 February 
  • Ratri Fourth प्रहर पूजा Time = 03:49 AM to 06:57 ,19 February 

 

Maha Shivaratri 2023
व्रत विधि हिंदी में :

शिवरात्रि व्रतम से एक दिन पहले, त्रयोदशी पर सबसे अधिक संभावना है, भक्तों को केवल एक समय भोजन करना चाहिए। शिवरात्रि के दिन, सुबह की रस्में पूरी करने के बाद भक्तों को शिवरात्रि पर पूरे दिन उपवास रखने और अगले दिन भोजन लेने के लिए संकल्प (संकल्प) लेना चाहिए। संकल्प के दौरान श्रद्धालु उपवास अवधि के दौरान आत्मनिर्णय के लिए प्रतिज्ञा करते हैं और बिना किसी व्यवधान के भगवान शिव का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। हिंदू उपवास सख्त हैं और लोग आत्मनिर्णय के लिए प्रतिज्ञा करते हैं और उन्हें सफलतापूर्वक समाप्त करने से पहले भगवान से आशीर्वाद मांगते हैं।

शिवरात्रि के दिन भक्तों को शिव पूजा करने या मंदिर जाने से पहले शाम को दूसरा स्नान करना चाहिए। शिव पूजा रात के समय की जानी चाहिए और भक्तों को स्नान करने के बाद अगले दिन उपवास तोड़ना चाहिए। भक्तों को व्रत का अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए सूर्योदय के बीच और चतुर्दशी तिथि के अंत से पहले उपवास तोड़ना चाहिए। एक विरोधाभासी मत के अनुसार भक्तों को व्रत तभी तोड़ना चाहिए जब चतुर्दशी तिथि समाप्त हो जाए। लेकिन ऐसा माना जाता है कि शिव पूजा और पराना (पारणा) यानी व्रत को तोड़ना दोनों ही चतुर्दशी तिथि के भीतर किया जाना चाहिए।

Shivaratrian  is incredible celebrationthe  of assembly of Shiva and Shakti. Chaturdashi Tithi during Krishna Pakshathe  in month of Magha is known as Maha Shivaratri as the per South Indian timetable.

Anyway as indicated by North Inddate bookbook Masik Shivaratrithe  in month of Phalguna is known as Maha Shivaratri. In the two timeta,bles ita  is a naming showthe  of lunar month which contrasts. An,yway both, North Indians and South Indians, observe Maha Shivaratrithe  on same day.

Vrat Vidhi in English – One day before Shivaratri Vratam, no doubt on Trayodashi, enthusiasts ought to eat just one time. On Shivaratri day, in the wake of getting done with wake-up routines enthusiasts should take Sankalp (संकल्प) to wathe tch entire day quick on Shivaratri and to take nourishmthe ent following day.

Maha Shivaratri 2020
Maha Shivaratri 2023
 

During San,kalp aficionados promise self-assurance all through the fasting time frame and look for the gift of Lord Shiva to complete the quick with no obstruction. Hindu fasts are severe and individuals promise self-assurance and look for God’s favour before beginning them to complete them effectively.

On Shivaratri day aficionados should wash in the prior night doing Shiva Puja or visiting the sanctuary. Shiva Puja ought to be finished during the night and aficionados should break the quick following day in the wake of washing up. Lovers should break the quick among dawn and before the finish of Chaturdashi Tithi to get the greatest advantage of the Vrat.


As per one conflicting conclusion enthusiasts should break the quick just when Chaturdashi Tithi gets over. In any case, it is accepted that both Shiva Puja and Parana (पारणा) for example breaking the quick ought to be done inside Chaturdashi Tithi.

Shivaratri puja can be performed one time or multiple times during the night. The entire night span can be partitioned into four to get four Prahar (प्रहर) to perform Shiva Puja multiple times.  records every one of the four Prahar spans for staunch Shiva enthusiasts who perform Shiva Pujan multiple times in the night. I likewise lNishita’shita time when Lord Shiva showed up on the Earth as Linga and the time window to break the quickthe on the following day.

Why We Celebrate Maha Shivratri 2023 Festival?
 
 

Propitious Hindu festival related to Maha Shivratri is reacentredered another und of ove Lord Shiva. Maha Shivratri is really observed for the thirteenth night/fourteenth night with the 11 Himonthsonth related to Phalguna or Maagh on a yearly premise.

Fans will likely commend the propitious night by essentially going on a quick and furthermore providing explicit wishes to Lord Shiva by basically serving milk and furthermore mineral water for the Shiv ling and furthermore improving the thought together with brilliant plants.

Maha Shivratri is not just only popular in the Indiandian subcontinent and furthermore, in various parts whincorporateates Nepal, wh by Lord Shiva is really venerated. An enormous number of devotees please take a sacred drop on an assortment of explorer zones at this crossroads. Aficionados’ados style broadened lines in an assortment of sanctuaries or wats in the Indiandian subcontinent to present wishes and what’s more watch the Rudra Abhishekam with the Almighty. The evening can be seen together with devotees spreading thwell-beingeing together with fiery debris.

 
 
 
 
The basis for Celebrating Maha Shivratri 2023
There are many mythological reports associated with the actual special event connected with Maha Shivratri. It’s presumed that this formless God appeasing of “Lingodbhav Moorti” at midnight on Maha Shivratri.
It is considered the main area why Shiva lovers maintain vigil in the evening and give wisdom to the Master.
It’s also presumed that will Hindu lovers. kwakingwakea up full evening to give organization for you to God Shiva. who was simply certainly not meant to go to sleep immediately after drinking the actual water pollute.

 
 
Enthusiasts believe that Master Shiva hitched Devi Parvati on Shivratri. As a result, the afternoon may be the partnership connected with Shiva and also Shakti, each very best causes with the Universe.
Your day is regarded ded auspicious for women. They wrapidlyapid and also worth on the Master to acquire blessed havhappilyappy wedded bliss, even thoan ugh unmarried person could wish to have an excellent man just like Shiva.

 
Maha Shivratri is also recognized for you to mark the afternoon once the Master preserved the entire world coming from devastation. The water ended up being churned. a weed connected with pollcomescome about which usually,gods, as well as the demons pres, used, could cause devastation for you to the whole planet. Shtookaken the actual deapollutionlute to s of the entire world.

 
Even so, our creator used the actpollutionlute in his tonsils instead of ingesting that. And the Lord’s tonsils turned violet because of the poison’s result and that’s Shiva’shiva will be often known as Nelkanth.

Maha Shivratri 2023 History Information in Hindi

‘महाशिवरात्रि’ के इस परम-पावन पर्व पर “अच्छीखबर-परिवार” के सभी सदस्यों को ढेर सारी शुभ कामनाएँ | मित्रों, कुछ विद्वानों का मत है कि आज ही के दिन शिवजी और माता पार्वती विवाह-सूत्र में बंधे थे जबकि अन्य कुछ विद्वान् ऐसा मानते हैं कि आज के ही दिन शिवजी ने ‘कालकूट’ नाम का विष पिया था जो सागरमंथन के समय अमृत से पहले समुद्र से निकला था |स्मरणीय है कि यह समुद्रमंथन देवताओं और असुरों ने अमृत-प्राप्ति के लिए मिलकर किया था |एक शिकारी की कथा भी इस त्यौहार के साथ जुड़ी  हुई है कि कैसे उसके अनजाने में की गई पूजा से प्रसन्न होकर भगवान् शिव ने उस [शिकारी] पर अपनी असीम कृपा बरसाई थी | वही पौराणिक कथा, आज मैं संक्षेप में, आपसे शेयर कर रही हूँ जो “शिव पुराण” में संकलित है ….

प्राचीन काल में ,किसी जंगल में गुरुद्रुह नाम का एक शिकारी रहता था जो जंगली जानवरों के शिकार द्वारा अपने परिवार का भरण-पोषण किया करता था |एक बार शिव-रात्रि के दिन ही   जब वह शिकार के लिए गया ,तब संयोगवश पूरे दिन खोजने के बाद भी उसे कोई जानवर शिकार के लिए न मिला, चिंतित हो कर कि आज उसके बच्चों, पत्नी एवं माता-पिता को भूखा रहना पड़ेगा, वह सूर्यास्त होने पर भी एक जलाशय के समीप गया और वहां एक घाट के किनारे एक पेड़ पर अपने साथ थोड़ा सा जल पीने के लिए लेकर, चढ़ गया क्योंकि उसे पूरी उम्मीद थी कि कोई न कोई जानवर अपनी प्यास बुझाने के लिए यहाँ ज़रूर आयेगा |वह पेड़ ‘बेल-पत्र’ का था और इसके नीचे शिवलिंग भी था जो सूखे बेलपत्रों से ढक जाने के कारण दिखाई नहीं दे रहा था |

रात का पहला प्रहर बीतने से पहले ही एक हिरणी वहां पर पानी पीने के लिए आई |उसे देखते ही शिकारी ने अपने धनुष पर बाण साधा |ऐसा करते हुए,उसके हाथ के धक्के से कुछ पत्ते एवं जल की कुछ बूंदे पेड़ के  नीचे बने शिवलिंग पर गिरीं और अनजाने में ही शिकारी की पहले प्रहर की पूजा हो गयी |हिरणी ने जब पत्तों की खड़खड़ाहट सुनी ,तो घबरा कर ऊपर की ओर देखा और भयभीत हो कर,  शिकारी से , कांपते हुए बोली- ‘मुझे मत मारो |’ शिकारी ने कहा कि वह और उसका परिवार भूखा है इसलिए वह उसे नहीं छोड़ सकता |

हिरणी ने शपथ ली कि वह अपने बच्चों को अपने स्वामी को सौंप कर लौट आयेगी| तब वह उसका शिकार कर ले |शिकारी को उसकी बात का विश्वास नहीं हो रहा था |उसने फिर से शिकारी को यह कहते हुए अपनी बात का भरोसा करवाया कि जैसे सत्य पर ही धरती टिकी है; समुद्र मर्यादा में रहता है और झरनों से जल-धाराएँ गिरा करती हैं वैसे ही वह भी सत्य बोल रही है | क्रूर होने के बावजूद भी, शिकारी को उस पर दया आ गयी और उसने ‘जल्दी लौटना’ कहकर ,उस हिरनी को जाने दिया |


Maha Shivratri History Information in Hindi


थोड़ी ही देर गुज़री कि एक और हिरनी वहां पानी पीने आई, शिकारी सावधान हो , तीर सांधने लगा और ऐसा करते हुए ,उसके हाथ के धक्के से फिर पहले की ही तरह थोडा जल और कुछ बेलपत्र नीचे शिवलिंग पर जा गिरे और अनायास ही शिकारी की दूसरे प्रहर की पूजा भी हो गयी |इस हिरनी ने भी भयभीत हो कर, शिकारी से जीवनदान की याचना की लेकिन उसके अस्वीकार कर देने पर ,हिरनी ने उसे लौट आने का वचन, यह कहते हुए दिया कि उसे ज्ञात है कि जो वचन दे कर पलट जाता है ,उसका अपने जीवन में संचित पुण्य नष्ट हो जाया करता है | उस शिकारी ने पहले की तरह, इस हिरनी के वचन का भी भरोसा कर उसे जाने दिया |

अब तो वह इसी चिंता से व्याकुल हो रहा था कि उन में से शायद ही कोई हिरनी लौट के आये और अब उसके परिवार का क्या होगा |इतने में ही उसने जल की ओर आते हुए एक हिरण को देखा, उसे देखकर वनेचर (शिकारी ) को बड़ा हर्ष हुआ ,अब फिर धनुष पर बाण चढाने से उसकी तीसरे प्रहर की पूजा भी स्वतः ही संपन्न हो गयी लेकिन पत्तों के गिरने की आवाज़ से वह हिरन सावधान हो गया |उसने व्याध (शिकारी ) को देखा और पूछा –“क्या करना चाहते हो ?” वह बोला-“अपने कुटुंब को भोजन देने के लिए तुम्हारा वध करूंगा |” वह मृग प्रसन्न हो कर कहने लगा – “मैं धन्य हूँ कि मेरा ये हृष्ट-पुष्ट शरीर किसी के काम आएगा, परोपकार से मेरा जीवन सफल हो जायेगा लेकिन एक बार मुझे जाने दो ताकि मैं अपने बच्चों को उनकी माता के हाथ में सौंप कर और उन सबको धीरज बंधा कर यहाँ लौट आऊं |

” शिकारी का ह्रदय, उसके पापपुंज नष्ट हो जाने से अब तक शुद्ध हो गया था इसलिए वह कुछ विनम्र वाणी में बोला –‘ जो-जो यहाँ आये ,सभी बातें बनाकर चले गये और अब तक नहीं लौटे ,यदि तुम भी झूठ बोलकर चले जाओगे ,तो मेरे परिजनों का क्या होगा ?” अब हिरन ने यह कहते हुए उसे अपने सत्य बोलने का भरोसा दिलवाया कि यदि वह लौटकर न आये; तो उसे वह पाप लगे जो उसे लगा करता है जो  सामर्थ्य रहते हुए भी दूसरे का उपकार नहीं करता | व्याध ने उसे भी यह कहकर जाने दिया कि ‘शीघ्र लौट आना |’

Maha Shivratri History Information in Hindi
 
 

रात्रि का अंतिम प्रहर शुरू होते ही उस वनेचर के हर्ष की सीमा न थी क्योंकि उसने उन सब हिरन-हिरनियों को अपने बच्चों सहित एकसाथ आते देख लिया था |उन्हें देखते ही उसने अपने धनुष पर बाण रखा और पहले की ही तरह उसकी चौथे प्रहर की भी शिव-पूजा संपन्न हो गयी | अब उस शिकारी के शिव कृपा से सभी पाप भस्म हो गये इसलिए वह सोचने लगा-‘ओह, ये पशु धन्य हैं जो ज्ञानहीन हो कर भी अपने शरीर से परोपकार करना चाहते हैं लेकिन धिक्कार है मेरे जीवन को कि मैं अनेक प्रकार के कुकृत्यों से अपने कुटुंब का पालन करता रहा |’ अब उसने अपना बाण रोक लिया तथा सब मृगों को यह कहकर कि ‘वे धन्य हैं’;  वापिस जाने दिया |उसके ऐसा करने पर भगवान् शंकर ने प्रसन्न हो कर तत्काल उसे अपने दिव्य स्वरूप का दर्शन करवाया तथा उसे सुख-समृद्धि का वरदान देकर “गुह’’ नाम प्रदान किया |मित्रों, यही वह गुह था जिसके साथ भगवान् श्री राम ने मित्रता की थी |

मित्रों, अंतत:, यही कहना चाहती हूँ कि जटाओं में गंगाजी को धारण करने वाले, सिर पर चंद्रमा को सजाने वाले,मस्तक पर त्रिपुंड तथा तीसरे  नेत्र वाले ,कंठ में कालपाश [नागराज] तथा रुद्रा- क्षमाला से सुशोभित , हाथ में डमरू और त्रिशूल है जिनके  और भक्तगण बड़ी  श्रद्दा से  जिन्हें  शिवशंकर, शंकर, भोलेनाथ, महादेव, भगवान् आशुतोष, उमापति, गौरीशंकर, सोमेश्वर, महाकाल, ओंकारेश्वर, वैद्यनाथ, नीलकंठ, काशीविश्वनाथ, त्र्यम्बक, त्रिपुरारि, सदाशिव तथा अन्य सहस्त्रों नामों से संबोधित कर उनकी पूजा-अर्चना किया करते हैं —– ऐसे भगवान् शिव एवं शिवा हम सबके चिंतन को सदा-सदैव सकारात्मक बनायें एवंसबकी मनोकामनाएं पूरी करें |

Maha Shivaratri 2020

 

Maha Shivratri History Information in Tamil

 

ராத்திரி என்ற பெயரோடு அழைக்கப்படும் விரதங்களில் சிவனை துதித்து வணங்கப்படும் விரதமே சிவராத்திரியாகும். சிவராத்திரி நித்ய சிவராத்திரி, பட்ச சிவராத்திரி, மகா சிவராத்திரி, யோக சிவராத்திரி என்றெல்லாம் வகைப்படுத்தப்பட்டுள்ளன. சிவராத்திரிகள் பல இருந்தாலும் மாசி மாதத்தில் கிருஷ்ண பட்சத்தில் வரும் புண்ணிய தினமே மகாசிவராத்திரி ஆகும்.

இந்துக்களின் முழுமுதற் கடவுளாகிய சிவபெருமானை எண்ணி முழு நாளும் வழிபடும் சிறப்பான விரதம் இந்த சிவராத்திரி ஆகும். அலை பாய்ந்து அவதிப்படும் மனிதனது ஐம்புலன்களும் ஓரிடத்தில் ஒடுங்கி பரமாத்மாவாகிய பரம் பொருளிடம் ஒடுங்கும் இந்த `ராத்திரி’ மங்கலமான ஒளி சிந்தும் ராத்திரியாகும்.

நமது ஐம்புலன்களையும் அடக்கி இறைவனது சிந்தனையோடு இறையன்பில் மூழ்கியிருக்கும் போது இந்த உலகின் இடையூறுகள் நம்மை எதுவும் செய்வதில்லை. உலகினில் உள்ள எல்லா பொருட்களுமே மாயையிடம் ஒடுங்கும். அப்படி மகா சக்தியிடம் ஒடுங்கும் காலம் இருள் நிறைந்ததாக இருக்கும். இந்த காலம் மகா பிரளயம் என்று சொல்லப்படுகின்றது.

உலகம் எத்தனை காலம் இருக்கின்றதோ அத்தனை காலமும் பிரளயமும் உண்டு. இந்த காலத்தில் தான் உமாதேவி நான்கு காலமும் சிவனைப் பூஜித்தார். முழு முதற் கடவுளான சிவபெருமான் மனம் இறங்கி உமா தேவியை நோக்கி உனக்கு என்ன வரம் வேண்டும் என்று கேட்டார். அதற்கு அம்மையார் நான் தங்களை மனமுவந்து பூஜித்த இந்த நாள் சிவராத்திரி எனப் பெயர் பெற வேண்டும்.

Maha Shivratri History Information in Tamil

இந்த தினத்தில் உங்களை முழு மனதோடும் பயபக்தியோடும் பூஜிப்பவர்கள் தங்கள் அருளினால் சகல பாக்கியங்களையும் பெற வேண்டும் என்று வேண்டிக் கொண்டார். இறைவனும் அவரது கோரிக்கையை ஏற்றுக் கொண்டார். அதனால் தான் சிவராத்திரி சிவ பூஜைக்கு சிறந்த நாளாகக் கொள்ளப்படுகின்றது.

சிவராத்திரி பற்றி பல கதைகள் மூலமாகவும் சிவ ராத்திரி மகிமை கூறப்படுகின்றது. சிவராத்திரியன்று நான்கு ஜாமங்களுக்கும் தனித் தனியான பூஜை முறைகள் சிவபுராணத்தில் கூறப்பட்டுள்ளன. அதைக் கடைப்பிடித்தால் அனைத்துப் பலன்களையும் பெற முடியும். முக்கியமாக அன்று நாம் சில விஷயங்களைக் கவனிக்க வேண்டும். முதலாவது அபிஷேகம். இது ஆன்மாவைத் தூய்மைப்படுத்துவதற்குறியது.

அடுத்தது லிங்கத்துக்குக் குங்குமம் அணிவித்தல். இது நல்லியல்புகளையும் பலன்களையும் குறிக்கிறது. மூன்றாவது பல்வேறு வகையான உணவுகளைச் சிவபெருமானுக்கு நைவேத்யமாகப் படைக்கப்படுகிறது. இது வாழ்க்கையில் நீண்ட ஆயுளையும் நம்முடைய  விருப்பங்களையெல்லாம் நிறைவேற்றுவதையும் குறிக்கும்.
நான்காவதாக செய்ய வேண்டியது தீபம் ஏற்றுதல், இல்வாழ்க்கைக்குத் தேவையான அத்தனை செல்வங்களையும் நமக்குக் கொடுக்கும்.

எண்ணெய் விளக்கேற்றுவதால் நமக்கு அவசியமாகத் தேவைப்படுகிற ஞானத்தை அடைய முடியும். வெற்றிலை வழங்குவதால் உலக இன்பங்களையெல்லாம் அனுபவித்து முழுதிருப்தி அடைய முடியும்’. சிவராத்திரிக்கு முதல் நாள் ஒரே ஒரு நேரம் மட்டும் சாப்பிட வேண்டும்.

துவைத்த  ஆடை உடுத்த வேண்டும். தூய்மையான மனதுடன் சிவனை வணங்க வேண்டும். அன்று இரவு முழுவதும் சிவனை நினைச்சு மந்திரம் ஓதியோ, புராணங்களைப் படித்தோ உறங்க வேண்டும். மறு நாள் அதிகாலையில் நல்ல சுத்தமான நீரில் குளித்துச் சூரிய உதயத்துக்கு முன்னாடி சிவசிந்தனையோட கோவிலுக்குப் போய் வணங்க வேண்டும். பகல் முழுவதும் உணவு எதுவும் தேவையில்லை.

இரவிலும் மறுமுறை குளித்து, கோவிலில் நான்கு காலங்களிலும் நடைபெறும் பூஜைகளைக் கண்டு சிவனை வணங்கி இரவு முழுவதும் விழித்திருக்க வேண்டும். அவசியம் நாலுகால பூஜையையும், பார்க்க வேண்டும். அப்படி இல்லாவிட்டாலும் கூட கடைசி 14 நாழிகையான லிங்கோத் பவ காலம் முழுவதுமாவது பஞ்சாட்சரம் சொல்லி வழிபட வேண்டியது அவசியம்.

தேன், பால், தயிர், நெய் ஆகியவற்றால் அபிஷேகம் செய்வது எண்ணற்ற பலன்களைக் கொடுக்கக் கூடியது. அபிஷேகம் எதற்காகச் செய்யப்படுறது சிவ பெருமான் ஆலகால விஷத்தை உட்கொண்டதால் அவரோட உடல் மிகவும் வெப்பமாக மாறி விடுவதாக ஐதீகம். அந்த வெப்பத்தைத் தணிப்பதற்காகவே அவருக்குப் பல்வேறு வகையான பொருட்களைக் கொண்டு அபிஷேகம் செய்கிறோம்.

வெண்பொங்கல், வடை, அன்னம், தோசை போன்றவற்றை நிவேதனமாகப் படைக்க வேண்டும். சிவனுக்கு மிகவும் விருப்பமானது வில்வம், விலக்க வேண்டியது தாழம்பூ. மகா சிவராத்திரி அன்று தான் நான்கு சாமங்களிலும் ருத்திராபிஷேகம் செய்து வில்வத்தால் சகஸ்ரநாம அர்ச்சனை செய்ய வேண்டும். அப்படி செய்யும் போது இவ்வுலக சுகமும் மறுமையில் கைலாசமும் கிடைக்கும் என்பது ஐதீகம்.

 
Mahashivratri Wis hes,Messa ges,Shayari,Text Msgs 2023


Shiv ki bhakti se noor milta haisabke dilon ko sukoon milta haijo bhi leta hai dil se bhole ka naamuse bhole ka aashirwad jaruru milta haijai bholenathhappy mahashivratri

mahashivratri ke es parv paraap sabhi par bhagwan shankar aur maa adishaktiki kripa bani rahe

shivratri ke es pavitar utsav par safalta aur samridhi ka damru aapke upar bajata rahejai bholesankar

aaj hai mahashivratrikriye bhole bhandari ka jaapunke jaap se dhulte hai saare papmahashivratri ki shubhkamnaye#महाशिवरात्रि की शुभकामनायें

 

Aaj jama jo bhang ka rangaapki jindagi beete khushiyon ke sangbhagwaan bhole ki kripa basre aap parjiwan me bhar jaye nayi umanghappy mahashivratri wishes to you

bhole ki mahima hai aparmparkarte hai apne bhakton ka udhaarshiv ki daya aap par bani raheaur aapke jeewan me khushiyaan bhari raheमहाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें 2023

Maha Shivaratri 2020

 

Sara jagat hai parbhu teri sharan meshar jhukte hai shiv tere charan meham bane bhole ki charno ki dhoolaao shiv ji par chadaye shardha ke phool

ॐ नम: शिवाय
,-“””-,| === l___| om |____{__~~_~_~~_~_}ॐ नमः शिवाय

Akal martyu vo mere jo kaam kare chadaal kakaal bhi uska kya kare jo bhakat ho mahakal kajay mahakal happy shivratri 2023

bhole baba ki pooja karengetabhi saare bigade kaam banegejay bhole shankar

जो कहे “ॐ नमः शिवाय”उसका सब कष्ट दूर हो जाय

Shiv ki shaktishiv ka jaapaur khushiyon ka sansaar mileiss shivratri ke utsav paraapko kamyaabi ki nayi shuruwaat milejay bholenaathhappy mahashivratri 2023

bhole aaye aapke dawarbhar de jeewan me khushiyon ki baharna rahe jeewan me koi bhi dukhihar aur phail jaye shukh hi shukhhappy mahashivratri 2023

महाशिवरात्रि के उपलक्ष परशिव और शक्ति के मिलन की हार्दिक शुभकामनायें

Bhole shankar ka aashirwaad mileunki dya ka parsad mileaap paaye jeewan me shaphaltaaapko bhole shankar ka vardaan mile

Bani rahe shiv ji ki aap par mayapalat jaye aapke kismat ki kayajindagi me aap haashil kare vo mukamjo aaj tak kisi ne nahi payajai bhole naath kihappy shiv ratri 2023


bhole ki bhakti me dubjayengebhole ke charan me shishe jhukayengeaaj hai shivratri ka tyohaaraaj shiv ki mahika ka gungaan gayenge

महाशिवरात्रि की आपके परिवार को हार्दिक शुभकामनायें. . .”$”. . .. “{ = = }”. “{ = = }”. “{ = = }”||_~_~_~||

Ek Phoolek bel patarek lota jal ki dhaarkare sabke jeewan ka udhaarom namah shivaaye..


,-“””-,| == || .@. |शिवरात्रि तक ये शिवलिंग हर व्यक्ति के मोबाइल में होना चाहियेजय भोले नाथ

Jagah jagah me shiv haihar jagah me shiv haihai vartman shivaur bhavishay me bhi shiv haihappy shivratri 2023

shiv bhi vahi hai shakanr bhi vahihai bhole naath bhi vahihar jagah basta vahihai vahi bhootnathwish you a very happy shivratri

mastak chahe chandarmaganga jaat ke beech shrdha se shivling konirmal jal man se seechnilkanth mahadev ki jay

jo amrit peete hai unhe dev kahte haiaur jo vish peete haiunhe mahadev kehte hai


pee ke bhaang jama lo rangjindagi beete khushiyan ke sanglekar naam shiv bhole kadil me bhal lo shivratri ki umangmahashivratri ki shubhkamnaye

Shiv ki mahima aaparshiv karte sabka udhaarunki kripa aap par sada bani raheaur aapke jeewan me aaye khushiyan hajaar

shiv ki bani rahe aap par chhayajo palat de aapki kismat ki kayamile aapko vo sabhi aapki jindagi mejo kabhi kisi ne bho na paya

bhakti me hai shakti bandhushakti me sansaar haitrilok me hai jiski charchaun shiv ji ka aaj tyohaar haiom namah shivaayehappy mahashivratri 2023

Maha Shivratri 2023 wishes



bhole baba ka aashirvaad mile aapkounki dua ka parsad mile aapkoaap kare aapni jindagi me itani tarakkihar kisi ka pyaar mile aapkojai bhole shiv shankar baba ki jay

shiv ki bani rahe aap par chhayapalat de jo aapki kismat ki kayamile aapko vo sab iss apni zindagi mejo kabhi kisi ne bhi na payashiv ratri ki dher saari badhai


Maha Shivratri 2023 status

kamal ki nashanebaaj ho tumtishi najar se bhi sheedha dil pe vaar karti ho

issi kashamkash me gujar jaati hai dinki tumse baat krunya tumhari baat karunvo mere paas se gujare aur haal tak na poochhamai kaise maan jaau ki vo door jake roye

kyon me teri taarif karun alfaaz nahi miltehuzur aap vo gulab hai jo har shaakh pe nahi khilte

kash tum mot hi hotiphir ek din meri jaroor hotitu muhbabat hai mei isliye door hai mujhseagar jeed hoti to ab tab baahon me hoti

 

 

I hope you guys enjoyed this article. You can use this Maha Shivratri information as a short essay and speech. Share this Maha Shivratri special article with your friends, relatives, and family members. Don’t forget to share on different social networking websites and apps like WhatsApp, Facebook, Google+, Twitter, Hike, Wechat, Land BBM, etc. Stay tuned with us for more upcoming Maha Shivratri articles.

Q1. When is Maha Shivaratri 2023?

Ans. Saturday, 18 February Maha Shivratri 2023

Q2. Which Colour do we wear on Shivratri?

Ans. Maha Shivaratri is widely celebrated as the day of Lord Shiva’s appearance in the form of Linga, which is said to have happened in the midnight of this day according to Indian Mythology.

Q3. Why do girls fast on Mahashivratri?

Ans. The Mahashivratri fast is a tradition that is observed by some people in order to increase the power of their prayers and potentially absolve them of their sins. It is usually marked by participants praying, chanting, meditating, and refraining from eating and drinking for the duration of the day and night.

Read More Related QUOTES

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top